गेहूँ लांक के ढेर में लगी आग, 2 एकड़ गेहूं की फसल जल कर हुई राख

Share with:


कायमगंज / फर्रुखाबाद: गर्म मौसम ऊपर से चल रही तेज हवाएं इस समय अग्निकांडों में विशेष रूप से सहायक साबित हो रही है। क्षेत्र में आए दिन कहीं न कहीं किसान की मेहनत की कमाई आग की भेंट चढ़ने के कारण अन्नदाता के लिए तबाही का मंजर साबित हो रहा है। आज भी एक ऐसा ही अग्निकांड हुआ जिसमें जल कर लगभग 2 एकड़ गेहूं की फसल तबाह हो कर राख की ढेरी में बदल गई। मिली जानकारी के अनुसार थाना क्षेत्र कंपिल के गांव शाहआलमपुर निवासी गुफरान रवाँ इसी गांव के मूल निवासी वाहिद अली पुत्र मुन्ने के खेत बटाई पर लेकर फसल उगाते हैं। इस बार वाहिद के गांव स्थित गाटा संख्या 55 तथा गाटा संख्या 23 बाले दोनों खेतों में गुफरान ने गेहूं की फसल हुई थी । फसल तैयार होने के बाद दोनों खेतों के गेहूं की कटाई की, तथा 23 नंबर वाले खेत के गेहूं का लाक लाकर 55 नंबर वाले खेत नहीं रख लिया था। इस तरह 2 एकड़ गेहूं फसल का लाक एक जगह थ्रेसिंग के लिए एकत्र था। इस ढेर में न जाने कैसे अचानक आग लग गई । तेज हवाओं के कारण आग ने विकराल रूप धारण कर लिया ।उड़ता हुआ धुँआ और निकलती लपटों को देखकर ग्रामीण एकत्र हो गए। ग्रामीणों ने पानी की बौछार करते हुए आग पर काबू पाने का काफी प्रयास किया। किंतु लपटों की तीव्रता के कारण समय रहते कुछ खास नहीं कर सके ।जब तक ग्रामीण आग बुझाने का प्रयास करते रहे। तब तक आग के प्रचंड रूप ने सब कुछ जलाकर राख कर दिया। ग्रामीणों ने इसकी सूचना थाना पुलिस तथा क्षेत्रीय लेखपाल एवं तहसीलदार को दी सूचना पाकर क्षेत्रीय लेखपाल ने मौके पर पहुंचकर तबाही का मंजर अपनी आंखों से देखा और उगाई गई फसल जो जलकर राख हो गई। उसके नुकसान का आंकलन भी किया है । बताया गया कि खेत स्वामी तथा बटाईदार के पास अपने परिवार की गुजर-बसर करने के लिए केवल यही दो एकड़ गेहूं की फसल थी। जो मडाई से पहले ही आग की भेंट चढ़ गई ।

Author: MNI NEWS