March 3, 2021

https://www.modernnewsindia.com

www.modernnewsindia.com

American President swearing ceremony: कैपिटल ह‍िल में होगा बाइडन का दबदबा, जानें क्‍यों खास है यह शपथग्रहण समारोह,कुछ अनछुए पहलू

(वाशिंगटन) American President’s swearing in ceremony: अमेरिका में कैपिटल हिल को पुलिस छावनी में तब्‍दील कर दिया गया है। जो बाइडन के शपथ ग्रहण समारोह के मद्देनजर सुरक्षा व्‍यवस्‍था कड़ी कर दी गई है। उनके शपथ ग्रहण समारोह की उलटी गिनती शुरू हो चुकी है। उनके भाषण का समय सुबह 11.30 (अमेरिकी समय के हिसाब ) बजे होगा। इसके बाद वह आधिकारिक रूप से व्‍हाइट हाउस में अपना कामकाज संभालेंगे। आइए जानते हैं अमेरिकी राष्‍ट्रपति शपथग्रहण समारोह के कुछ अनछुए पहलू। अमेरिका के लंबे इतिहास में यहां किस तरह के बदलाव आए।  

अमेर‍िकी राष्‍ट्रपति चुनाव में 20वां संशोधन काफी अहम

अमेरिका में 20वें संशोधन के पूर्व अमेरिकी राष्‍ट्रपति 4 मार्च को शपथ लेता था। 1933 तक नवनिर्वाचित राष्‍ट्रपति का 4 मार्च को शपथग्रहण समारोह होता था। दरअसल, अमेरिकी राष्‍ट्रपति चुनाव प्रक्रिया थोड़ी जटिल है, राजधानी तक चुनाव नतीजे पहुंचने में काफी समय लगता था। नए राष्‍ट्रपति के शपथ लेने और पूर्व राष्‍ट्रपति के बने रहने का चार महीने का यह समय काफी लंबा था। इसे ‘लेम डक पीरियड’ (Lame duck Period) कहा गया। समय के साथ अमेरिका में तकनीकी क्षमताओं और संसाधनों में तेजी से विकास हुआ। आधुनिक तकनीक के चलते वोटों की गिनती के कार्य में तेजी आई। इसलिए चार महीने के अंतराल को घटा दिया गया। इसके लिए बाकयदा संव‍िधान में संशोधन किया गया और 20 जनवरी को ही नए राष्‍ट्रपति का शपथ ग्रहण का दिन तय हुआ।

समारोह में आम और खास दोनों तरह के इंतजाम

राष्‍ट्रपति शपथग्रहण समारोह में आम और खास दोनों तरह के इंतजाम हैं। जी हां, स्‍टेज के सामने बैठने और खड़े होने और परेड मार्ग से सटे इलाके में बैठने के लिए ट‍िकट की जरूरत होती है। आम लोगों के लिए नेशनल मॉल आम लोगों के लिए खुला होता है। 6 जनवरी को यहां हिंसा के बाद इस मॉल को भी बंद कर दिया गया था। यदि आप इस समारोह को नजदीक से देखना चाहते हैं तो इसके लिए बाकयदा स्‍थानीय प्रतिनिधि से बात करनी होगी। समारोह से जुड़े अन्‍य कार्यक्रमों के लिए टिकट की जरूरत नहीं पड़ती है। सीनेटरों और कांग्रेस के सदस्‍य इस समारोह की देखरेख में लगे होते हैं। प्रत्‍येक को कुछ फ्री टिकट दिए जाते हैं। इस बार कोरोना संक्रमण की वजह से एक प्रतिनिध‍ि के साथ एक मेहमान ही प्रवेश कर सकता है।

महज एक हजार लोग ही देख सकेंगे यह उत्‍सव

बाइडन और कमला हैरिस कैपिटल हिल के सामने ही शपथ लेंगे। इस परंपरा की शुरुआत वर्ष 1981 में शुरू हुई। उस वक्‍त राष्‍ट्रपति रोनाल्‍ड रीगन का शपथ ग्रहण समारोह यहीं से संपन्‍न हुआ था। तब से कैपिटल हिल शपथग्रहण समारोह कार्यक्रम का स्‍थल बन गया। शपथ समारोह को देखने के लिए दो लाख टिकट जारी हुआ करते थे। इसे देखने के लिए अमेरिका में दूर-दराज से लोगों की आवक होती थी। यह एक उत्‍सव की तरह होता था। हालांकि, इस बार कोरोना महामारी के कारण सिर्फ एक हजार टिकट ही जारी किए गए हैं।