कोविड टीकाकरण का मॉक ड्रिल कल

मॉकड्रिल के लिए एएनएम का किया गया उन्मुखीकरण
कोविन पोर्टल के माध्यम से की जाएगी निगरानी
टीकाकरण होने के बाद भी बरतें सावधानी

फर्रुखाबाद:(MNI NEWS)
कोरोना वैक्सीन के जल्द आने की उम्मीद है, ऐसे में उसके भंडारण व रखरखाव को लेकर डॉ राममनोहर लोहिया चिकित्सालय, सिविल अस्पताल लिंजीगंज, आर्मी हास्पिटल के अलावा सीएचसी पर तैयारी पूरी कर ली गई है। टीकाकरण शुरू होने से पहले मंगलवार को इसका मॉक ड्रिल होगा। यह कहना है मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ वंदना सिंह का।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी ने मॉक ड्रिल और कोविंन पोर्टल पर किस तरह डाटा को फीड किया जायेगा, इसके लिय सोमवार को मुख्य चिकित्सा अधिकारी सभागार में एएनएम का उन्मुखीकरण किया। वैक्सीन आने के बाद पहले चरण में लगभग 6000 स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण होगा।
कोरोना से बचाव के लिए आ रही वैक्सीन को लगाने की तैयारियां जोरों पर हैं। इसके रखरखाव और टीकाकरण स्थल तैयार कर लिए गए हैं। जिले पर वैक्सीन रखने की व्यवस्था सीएमओ ऑफिस पर की गई है जबकि ब्लॉकों पर यह सीएचसी में रखी जाएगी। वैक्सीन रखने के लिए आईएलआर (आइस लाइन रेफ्रिजरेटर) भी हैं।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ प्रभात वर्मा ने बताया कि वैक्सीन लगाने के लिए जिन स्थलों का चयन किया गया है वहां पर तीन कमरों की व्यवस्था रहेगी। पहले कमरे में टीका लगवाने वाले का सत्यापन होगा, दूसरे कमरे में टीका लगेगा और तीसरे कमरे में डॉक्टर की निगरानी में टीका लगवाने वालों को आधा घंटे तक रोका जाएगा।

डॉ. प्रभात वर्मा ने बताया कि कोरोना वैक्सीन के टीकाकरण को लेकर जो तैयारियां की गई हैं। उसकी परख के लिए पांच जनवरी को मॉकड्रिल होगा। इसमें टीका लगवाने के लिए आए व्यक्ति की पहचान, एएनएम के टीका लगाने और उसके बाद उसकी निगरानी आदि को लेकर की गई तैयारियों में यदि किसी प्रकार की कोई कमी रह गई है तो उसका पता लगाया जाएगा।

डॉ वर्मा ने बताया कि जिनका टीकाकरण होना है उनका ब्योरा और मोबाइल नंबर कोविन पोर्टल पर अपलोड हो चुका है। टीकाकरण से एक दिन पहले संबंधित व्यक्ति के मोबाइल पर मेसेज आएगा, जिसमें टीकाकरण स्थल और समय लिखा होगा। टीका लगवाने के लिए आधार कार्ड व मोबाइल नंबर साथ लेकर जाना होगा, क्योंकि मोबाइल पर ओटीपी आएगी, जिसे पोर्टल पर दर्ज कर वैक्सीन लगाई जाएगी।
साथ ही कहा कि यह पता लगाना सभी के लिए बहुत मुश्किल है कि किस व्यक्ति को वैक्सीन लगी है और किसे नहीं। इसलिए वैक्सीन के बाद भी सभी का मास्क पहनना और शारीरिक दूरी का पालन करना बेहद जरूरी है। ताकि वैक्सीनेशन के बाद भी कोरोना को रोका जा सकें।

प्रशिक्षण देते हुए यूएनडीपी के वीसीसीएम मानव शर्मा ने बताया कि कोविड टीकाकरण का हिसाब-किताब रखने के लिए भारत सरकार ने को-विन पोर्टल लांच किया है। जिन स्टॉफ को टीका लगेगा, उनका फॉलोअप भी किया जाना है। टीका लगने के बाद स्टॉफ की कैसी तबियत है, इस सम्बंध में भी पोर्टल पर सूचना अपलोड किया जाना जरूरी होगा।
साथ ही कहा कि वैक्सीन कोल्ड चेन प्वाइंट पर वैक्सीन के स्टाक की मात्रा एवं भंडारण फ्रिजरियल टाइम तापमान की ऑनलाइन निगरानी ‘को-विन’ (विन ओवर कोविड) प्रोग्राम के अंतर्गत मोबाइल एप एवं बेब पोर्टल से की जाएगी। इसके लिए जिले में प्रत्येक कोल्ड चेन पर रखे आईएलआर में टेंपरेचर लागर नाम की एक सेंसर युक्त डिवाइस स्थापित है। यह डिवाइस नेट के माध्यम से वेब पोर्टल से जुड़ी रहेगी। यह पोर्टल पूरी तरह से कोरोना वैक्सीन के प्रबंध पर कार्य करेगा।

को-विन पोर्टल से वैक्सीन और लॉजिस्टिक, सत्र स्थल, वैक्सीनेटर और लाभार्थी की सूचना मिलेगी। ‘को-विन’ पोर्टल के माध्यम से रजिस्टर्ड लाभार्थी को वैक्सीनेशन की सूचना उनके मोबाइल पर मैसेज के जरिए प्राप्त होगी। उसमें स्थान, समय, दिनांक, सत्र स्थल और कौन वैक्सीनेटर है, इसकी जानकारी शामिल होगी।

Author: MNI NEWS