रंजिश में ई-रिक्शा चालक के साथ मारपीट कर चाकुओं से गोद कर किया घायल, हालत गंभीर

कायमगंज/फर्रुखाबाद:(MNI NEWS) मामूली विवाद बना ई-रिक्शा चालक की जान के लिए खतरा, मिली जानकारी के अनुसार कायमगंज तहसील पुलिया पुल ग़ालिब के पास एक अधिवक्ता की गोदाम में 22 वर्षीय ई-रिक्शा चालाक शिवम पुत्र संतोष रह रहा है। वह रिक्शा चलाकर अपने परिवार का भरण पोषण करता है।

बीते कल जब वह फर्रुखाबाद कायमगंज मार्ग पर स्थित पुलिया पुल ग़ालिब पर रिक्शा लिए सवारियों के इंतजार में खड़ा था। उसी समय कोतवाली क्षेत्र कायमगंज के गांव जिररवापुर का निवासी दीपक अपना रिक्शा लेकर वहां पहुंचा। तेज गति एवं असंतुलित होने के कारण उसका रिक्शा शिवम के रिक्शे से टकरा गया। टक्कर लगने से शिवम के रिक्शे का शीशा क्षतिग्रस्त हो गया। इस पर दोनों के बीच काफी वाद विवाद हुआ। किंतु कुछ लोगों के द्वारा शीशा नया डलवा देना की शर्त पर समझौता हो गया था। इसके बावजूद भी दीपक ने शिवम को जल्द ही सबक सिखाने की धमकी दे दी थी।

इसके बाद दीपक अपने एक कुबेरपुर निवासी साथी को लेकर शिवम के गोदाम स्थित आवास पर गया और फिर एक बार गंभीर होकर धमकी दे डाली। जिसे शिवम ने नजरअंदाज कर दिया। दीपक के उसी कुबेरपुर वाले साथी ने शिवम को फोन किया और कहा कि उसे अपना केला मंडी ले जाना है। तुम रिक्शा लेकर टेढ़ी कोन पर आ जाओ शिवम जैसे ही वहां अपना ई रिक्शा लेकर पहुंचा वैसे ही पूर्व नियोजित योजना के अनुसार दीपक उसके साथी कुबेरपुर निवासी सहित चार पांच अज्ञात लोगों ने उसे दबोच लिया और मारपीट कर कब्जे में लेकर बेरहमी के साथ चाकुओं से प्रहार करना शुरू कर दिया।

इन हमलावरों ने चाकुओं से गोदकर शिवम की गर्दन हाथ पीठ आदि जगह गंभीर चोटें पहुंचाते हुए उसे लहूलुहान कर दिया। गर्दन पर लगा चाकू बहुत ही खतरनाक साबित हो रहा था। जिससे काफी रक्त बह रहा था। मरणासन्न हालत में पहुंच चुके शिवम को हमलावर मरा समझकर मौके से चले गए। घटना की सूचना पाकर कोतवाली पुलिस ने घायल को नगर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाकर भर्ती करा दिया। यहां से प्रथम उपचार के बाद घायल को डॉ राम मनोहर लोहिया अस्पताल फर्रुखाबाद के लिए रेफर कर दिया गया।

इस घटना की पूरी जानकारी घायल के पिता संतोष कुमार ने देते हुए बताया कि यदि यह मालूम हो जाता कि यह लोग इतना बड़ा कांड कर देंगे तो शिवम वहां जाता ही नहीं, मामले की लिखित तहरीर घायल के पिता द्वारा दीपक व उसके अज्ञात चार पांच साथियों के विरुद्ध कोतवाली पुलिस को उपलब्ध करा दी गई है जबकि बेचारा गरीब ई रिक्शा चालक गंभीर हालत में जिंदगी और मौत के बीच उपचाराधीन है।