एक दिसंबर से बिना HSRP अब नहीं होंगे वाहन संबंधित काम

लखनऊ:आरटीओ में पहली दिसंबर से अब बिना हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट (HSRP) के वाहन संबंधित काम नहीं होंगे। वाहनों की फिटनेस हो या फिर अन्य जरूरी कार्य। जिन वाहनों में एचएसआरपी नहीं लगी है और वे इसके लिए आवेदन कर चुके हैं, उन्हें ऑनलाइन जमा कराई गई शुल्क की रसीद जैसे साक्ष्य प्रस्तुत करने होंगे। उसके बाद ही आवेदकों के कार्य आगे बढ़ेंगे। बिना इसके अब वाहन के स्वस्थता प्रमाण पत्र जारी नहीं होंगे। चूंकि इस रसीद पर वाहन के नंबर आदि की संपूर्ण जानकारी होगी लिहाजा यह माना जाएगा कि एचएसआरपी वाहन में लगना तय हो गया है।  हालांकि, अभी वाहनस्वामी पर एचएसआरपी को लेकर किसी तरह का चालान या जुर्माने की व्यवस्था नहीं की गई लेकिन इसे अनिवार्य कर दिया गया है। लखनऊ के ट्रांसपोर्टनगर और देवा रोड दोनों कार्यालयों समेत पूरे प्रदेश में इस व्यवस्था के तहत ही कार्य होंगे। अधिकारियों के मुताबिक सोमवार को गंगा स्नान होने के चलते कार्यालय बंद रहेगा। ऐसे में मंगलवार से यह प्रक्रिया पूरी तरह से लागू हो जाएगी।

फंसेंगे ये प्रमुख कार्य

  • वाहनों की स्वस्थता प्रमाणपत्र नहीं जारी होंगे।
  • डुप्लीकेट पंजीयन प्रमाण पत्र जारी होने में आएगी दिक्कत
  • आरसी में पता परिवर्तन।
  • हाइपोथिकेशन आदि। 

क्‍या कहते हैं अफसर ? 

अपर परिवहन आयुक्त एके पांडेय के मुताबिक, एक अप्रैल 2019 से पहले पंजीकृत हुए सभी प्रकार के वाहनों इसके दायरे में आएंगे। वहीं व्यवसायिक वाहनों के स्वामियों को नियत तिथि तक एचएसआरपी लगवा लेनी होगी। चौपहिया अथवा भारी वाहनों में आगे, पीछे और विंड स्क्रीन पर इसे लगवाया जाएगा। अगर किसी वाहनस्वामी ने इसके लिए आवेदन किया है तो उसे एचएसआरपी की रसीद पेश करनी होगी तभी उसके वाहन की स्वस्थता जांच होगी।