दो घण्टे पहले आयी कालिन्दी एक्सप्रेस ट्रेन, स्थानीय ड्यूटी रेलकार्मियों की लेट-लतीफी


फर्रूखाबाद: देश में लॉकडाउन के करीब साढ़े पांच माह बाद पहली बार उत्तर प्रदेश में पूर्वोत्तर रेलवे फर्रूखाबाद जंक्शन स्टेशन पर रविवार को करीब दो घण्टे (बीफोर) पहले कालिन्दी एक्सप्रेस ट्रेन के आने पर, स्थानीय ड्यूटी रेल कार्मियों की लेट-लतीफी में, दिल्ली से आने वाले रेलयात्री यहां के मेनगेट पर टीटीई न होने पर से बिना टिकट दिये ही चले गए।

रेल सूत्रों के अनुसार रेलवे बोर्ड के निर्देश पर करीब साढ़े पांच माह बाद 12 सितम्बर 2020 से शुरू हुई भिवानी-दिल्ली बायां फर्रूखाबाद होकर कानपुर सेन्ट्रल प्रतिदिन चलने वाली 04724 स्पेशल कालिन्दी एक्सप्रेस ट्रेन आज रविवार 13 सितम्बर 2020 को उत्तर प्रदेश में पूर्वोत्तर रेलवे फर्रूखाबाद जंक्शन स्टेशन पर, अपने आने वाले निर्धारित समय प्रातः 07ः00 बजे से (बीफोर) पहले ही प्रातः 5ः10 बजे प्लेटफार्म पर आकर खड़ी हो गयी। जिससे डिब्बों में सो रहे करीब एक सैकड़ा रेलयात्री भौचक्के रह गए।

सूत्रों के अनुसार कालिन्दी एक्सप्रेस के फर्रूखाबाद स्टेशन पर करीब दो घण्टे (बीफोर) पहले आने से स्थानीय ड्यूटी रेलकार्मियों की लेट-लतीफी यहां तक साफ नजर आयी कि दिल्ली से आये रेलयात्रियों का प्लेटफार्म नम्बर-5 के मेनगेट पर टीटीई के न होने से एक भी यात्री का टिकट कलेक्शन नहीं हुआ। इसके साथ ही रेलवे स्वास्थ्य विभाग की टीम दिल्ली से आने वाले इन रेलयात्रियों की स्वास्थ्य चेकिंग के लिये उपलब्ध न होने पर यह रेलयात्री बिना चेकिंग कराये ही अपने-अपने घरों को चले गए।

इधर फर्रूखाबाद जंक्शन स्टेशन पर टीटीई एवं स्वास्थ्य विभाग की लेट लतीफ आयी टीम ने फर्रूखाबाद जंक्शन से प्रातः 07ः40 बजे कानपुर सेन्ट्रल के लिये रवाना होने वाली इस कालिन्दी एक्सप्रेस ट्रेन के 48 रेलयात्रियों में से 30 मास्क, सेनेटाइजर तथा थर्मल स्क्रीनिंग का अनुपालन कराया गया और दो टीटीई कालिन्दी से रवाना किये गये। फर्रूखाबाद प्लेटफार्म पर चेकिंग स्टाफ सहित पांच टीटीई तथा फतेहगढ़ स्टेशन पर तीन टीटीई व वाणिज्यिक कार्मियों को लगाया गया।

इधर पूर्वोत्तर रेलवे इज्जतनगर मण्डल के ए0सी0एम0 जे0के0 सिंह अपने वाहन से आज तड़के फर्रूखाबाद जंक्शन स्टेशन पर पहुॅचे इसके बाद श्री सिंह ने मालगोदाम का बारीकी से निरीक्षण किया तथा अपने कार्मियों की व्यवस्थाओं पर संतोष व्यक्त करते हुये कहा कि मालगोदाम पर माल लोड व अनलोड में वृद्धि होने से मालगोदाम की दूसरी साइड में एक नई रेललाइन बिछाने की आवश्यकता है।