बस अड्डे से लेकर बसों में कोविड-19 की गाइड लाइन की उड़ाई जा रही धज्जियां


फर्रूखाबाद: लॉकडाउन खत्म होते ही परिवहन निगम लापरवाह हो गया है। रोडवेज बसों में यात्रियों को ठूंस-ठूंसकर भरा जा रहा है। बसें कम होने के कारण यात्री खड़े होकर यात्रा करने को मजबूर हो रहे हैं। बस अड्डे से लेकर बसों में कोविड-19 की गाइड लाइन का पालन भी नहीं किया जा रहा है। सेनेटाइजर तो दूर, चालक-परिचालक सहित बड़ी संख्या में यात्री मास्क का प्रयोग भी नहीं कर रहे हैं।

रोडवेज बसों में बड़ी लापरवाही बरती जा रही है। भले ही लॉकडाउन खत्म हो गया है लेकिन अभी कोरोना काल का दौर जारी है। इसके बाद भी परिवहन निगम यात्रियों की सुविधा के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठा रहा है। बस अड्डे से लेकर बसों में कोविड-19 की गाइड लाइन की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। रोडवेज बस अड्डे पर कोविड हेल्प डेस्क शोपीस बनकर रह गई है। चालक और परिचालक हैंड सैनिटाइज करना तो दूर मास्क का भी इस्तेमाल नहीं कर रहे हैं। इसके साथ ही बसों में सफर करने को पहुंच रहे यात्रियों को भी जागरूक नहीं किया जा रहा है।

यात्रियों के न तो हैंड सेनेटाइज किए जा रहे हैं और न ही उनको मास्क लगाने के लिए जागरूक किया जा रहा है। देखा गया है कि कानपुर, एटा, बरेली, दिल्ली आदि को जाने वाली बसों में भीड़ बढ़ रही है। लॉकडाउन खत्म होने के बाद भी अभी बसों की संख्या बढ़ाई नहीं गई है, जिसके चलते यात्रियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। एआरएम आरसी यादव ने बताया कि व्यवस्था में सुधार लाया जा रहा है। मास्क सभी को लगाना अनिवार्य है। कोविड को लेकर कोई कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।