जेठ गंगा दशहरा पर श्रद्धालुओं ने उड़ाई सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां


फर्रूखाबाद: लॉकडाउन खुलते ही दशहरा पर्व श्रद्धालुओं की गंगा घाटों पर भीड़ उमड़ पड़ी। तैनात पुलिस भी श्रद्धालुओ की इस भीड को रोकने में नाकाम साबित हुई। सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उडाते हुए लोगो ने गंगा में श्रद्धा की डुबकी लगाई है।

शहर के पांचालघाट स्थित गंगा घाट पर आज श्रद्धालुओं की भीड उमड पडी। पुलिस ने पांचालघाट चौराहे पर शहर कोतवाल वेद प्रकाश पांडेय ने भारी पुलिस बल तैनात कर दिया। बताते चलें कि भीड बढने पर पुलिस ने पैदल निकलने वालों को रोका और वापस कर दिया। बडे वाहनों की वजह से जाम की स्थिति भी उत्पन्न हुई। कडी मशक्कत के बाद जाम को खोला गया। उधर सोशल डिस्टेसिसंग का उल्लंघन गंगा घाट पर होता दिखाई दिया। प्रशासन पर श्रद्धालुओं की आस्था भारी नजर आईं।

वहीं शमशाबाद प्रतिनिधि के अनुसार जेठ दशहरा पर्व होने के कारण जहां एक ओर देश में फैली महामारी कोविड-19 के कहर से आम लोगों को बचाने के लिए पुलिस प्रशासन द्वारा जगह-जगह बैरी केटिंग लगाई गई थी बही दूसरी ओर पुलिसकर्मी पहरा दे रहे थे लेकिन भक्तों की लालसा उन्हें ढाई घाट शमशाबाद की गंगा नदी तक खींच ही ले गई जगह-जगह साइकिलो मोटर साइकिलो तथा पैदल आने जाने वाले लोगों को गस्त कर रही पुलिस ने देखा रोका और समझाया बताया देश में महामारी फैली हुई है सरकार सभी की सुरक्षा के लिए कृतसंकल्प बत हैं ऐसी स्थिति में आम लोगों को घरों पर रहने के लिए कहा गया है साथ ही सुरक्षा के लिहाज से सामाजिक दूरी का दायरा भी रखने को कहा गया कहते हैं मत वालों को कोई नहीं रोक सकता उन्हें जाना है तो जाना है चाहे जो भी हो बताते हैं ढाई घाट शमशाबाद गंगा पुल पर दरोगा बुंदेला गश्त कर रहे थे उसी दौरान गंगा स्नान के उद्देश्य से गुजरने वाले लोगों को रोका समझाया मना किया और वापस भेजा लेकिन आस्था के सागर में डूबे भक्तों ने गंगा स्नान और गंगा मैया की पूजा अर्चना करना अपना धर्म समझा इसलिए अधिकांश भक्तों को मुख्य मार्ग की वजह ग्रामीण क्षेत्र की पगडंडियों के सहारे ढाई घाट शमशाबाद गंगा नदी पर जाते हुए देखा गया जहां बड़ी संख्या में लोगों ने गंगा स्नान किया स्नान के उपरांत गंगा मैया की पूजा अर्चना कर देश में फैल रही कोरोना महामारी के खात्मे के साथ-साथ घर परिवार समाज तथा देश में अमन चैन कायम रहे की कामनाये की।

जेठ दशहरा पर्व के गंगा स्नान को लेकर भक्तों में उल्लास का माहौल देखा गया उन्हें ग्रामीण क्षेत्रों से ही नहीं बाहरी इलाकों से भी आते देखा गया लेकिन स्नान करने वाले भक्तों के जज्बातों को शायद कोई रोक न सका न ही उन्हें डर था कि देश में को रोना महामारी फैली हुई है इससे बचने के लिये सामाजिक दूरी का पालन करना अति आवश्यक है मास्क लगाना भी उधर भक्ति भाबना की गंगा में गोते लगाने वाले भक्तगण सामाजिक दूरियो को अपना ना भूल गए श्रद्धा के माहौल में गंगा स्नान कर आस्था के प्रति एक मिसाल कायम की वही समाचार लिखे जाने तक किसी अप्रिय घटना का समाचार नहीं मिला था।

वहीं कमालगंज प्रतिनिधि के अनुसार श्रृंगीरामपुर घाट पर कई जनपदों से आए स्नार्थियों ने गंगा स्नान किया। बिना मास्क लगाए लोगो को पुलिस ने घाट पर ही रोक लिया और उन्हें मास्क लगाने की हिदायत दी। गंगा घाटों पर सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उडाई गई।