रेलवे में भी अब होगा ऑटोमेटिक गेट टिकट चेकिंग सिस्टम, उत्तर रेलवे के 2 स्टेशन पर होगी व्यवस्था


लखनऊ: मेट्रो स्टेशनों की तरह अब रेलवे स्टेशनों पर आने वाले यात्रियों की टिकट चेकिंग ऑटोमेटिक होगी। रेलवे बोर्ड टिकट संग्राहक (टीसी) की जगह ऑटोमेटिक गेट आधारित टिकट चेकिंग सिस्टम लागू करने जा रहा है। पायलट प्रोजेक्ट के तहत यह ट्रायल उत्तर रेलवे के दो स्टेशनों पर होगा। रेलवे बोर्ड ने अभी दोनों स्टेशनों के नाम तय नहीं किए हैं। जबकि रेलवे बोर्ड में नई दिल्ली के साथ लखनऊ, अंबाला, जम्मूतवी व चंडीगढ़ के बीच दो स्टेशनों को चुनने के प्रस्ताव पर मंथन हो रहा है। 

दरअसल, रेलवे में अभी टीसी ही स्टेशनों पर टिकट चेकिंग करते हैं। एक तरफ जहां ट्रेनों में रेलवे के एंटी फ्रॉड दस्ते की छापेमारी में बड़ी संख्या में बेटिकट यात्री पकड़े जा रहे हैं। वहीं दूसरी ओर वाराणसी सहित कई स्टेशनों पर फर्जी जनरल टिकट के पकड़े जाने के मामले भी सामने आए हैं। रेलवे अब थर्मल बार कोड वाले टिकट बनाने की तैयारी कर रहा है। इससे टिकटों की जालसाजी रोकी जा सकेगी। वहीं मेट्रो स्टेशनों की तरह रेलवे भी अधिक भीड़ वाले स्टेशनों पर ऑटोमेटिक गेट आधारित टिकट चेकिंग सिस्टम लगाने का प्रस्ताव बनाया गया है। इसको निकासी द्वार पर लगाया जाएगा। बार कोड वाले टिकटों को गेट की स्क्रीन के सामने लगाने पर यात्री बाहर निकल सकेंगे। फिलहाल रेलवे ने इस ट्रायल के लिए 4.16 करोड़ रुपये स्वीकृत किए हैं।