निर्माणाधीन लक्ष्य हॉस्पीटल का बल्ला गिरने से तीमारदार बेटे की दर्दनाक मौत

Your ads will be inserted here by

Easy Plugin for AdSense.

Please go to the plugin admin page to
Paste your ad code OR
Suppress this ad slot.

बेटा अपने बीमार पिता को सहारा देकर टहलाने निकला था।
कायमगंज/फर्रुखाबाद:
कैंसर रोग विशेषग्य डाक्टर नवलकिशोर शाक्य के स्वामित्व वाला लक्ष्य अस्पताल कायमगंज में नहर के किनारे निर्माणाधीन हैं। इस अस्पताल के भूतल वाले खंड से ऊपर तीसरी मंजिल पर इस समय तेजी से निर्माण कार्य चल रहा है। प्रथम खंड तक मरीजों के बैड सहित मेडीकल स्टोर, परीक्षण कक्ष एवं आपरेसन थियेटर की सुविधा उपलब्ध है।
इस अस्पताल में जिला कासगंज, थाना सिढपुरा के गाँव धनसिंहपुर निवासी पूर्व सैनिक अशोक कुमार यादव 14 मार्च को उपचार कराने के लिए भर्ती हुए थे। पूर्व सैनिक 35 वर्षीय बेटा सर्वेन्द्र कुमार अपने पिता की यंही रूककर देखभाल करता था। गत शाम बेटा अपने बीमार पिता को खाना खिलाने के बाद सहारा देकर अस्पताल परिसर में ही टहला रहा था। उसी समय निर्माण कार्य में प्रयोग किये जाने वाला 15-20 फीट लम्बाई वाला एक बल्ला तीसरी मंजिल से अचानक नीचे आ गिरा। इस वजनदार बल्ले की चपेट में आने से तीमारदार बेटे के सिर में गंभीर चोट आ गयी। चोट लगते ही बीमार पिताः का बेटा बेहोश होकर गिर पड़ा। जिसे तुरंत अपने निजी वाहन से अस्पताल वाले उपचार के लिए अपने लक्ष्य अस्पताल लखनऊ लेकर चल दिए। किन्तु दुर्भाग्यवश बीमार पूर्व सैनिक के बुढ़ापे के सहारे उसके बेटे की रास्ते में ही दुखद मौत हो गयी साथ जा रहे परिजन शव लेकर कोतवाली कायमगंज पहुंचे। इधर इस घटना की सूचना पाते ही मृतक के गाँव से लगभग 50 लोग कायमगंज आ गये। तहरीर देकर मुकदमा लिखवाने की बात चल रही थी उसी समय अस्पताल संचालक की ओर से समझौते का प्रयास किये जाने पर शायद बात बन जाने के बाद मृतक के परिजनों ने रिपोर्ट लिखवाने एवं शव का पोस्टमार्टम कराने से इनकार करना शुरू कर दिया था। किन्तु पुलिस का कहना था कि बांकी तो आप लोग जाने परन्तु शव का पोस्टमार्टम तो कराया ही जाएगा। समाचार लिखे जाने तक इस दुखद घटना के पीछे कसमकस जारी थी।