पत्रकारों ने नगर मजिस्ट्रेट को ज्ञापन सौंप आजादी की मांग कर स्वाभिमान को बरकरार रखने की आवाज उठाई

Your ads will be inserted here by

Easy Plugin for AdSense.

Please go to the plugin admin page to
Paste your ad code OR
Suppress this ad slot.

फर्रुखाबाद: प्रशासन द्वारा जिले भर की मीडिया की अनदेखी करने से नाराज कलमकारों ने आज आजादी के बाद पहली बार टाउन हाल स्थित गांधी प्रतिमा पर गांधीवादी तरीके से यहां सांकेतिक धरना दिया। नगर मजिस्ट्रेट को सौंपे ज्ञापन में आजादी की मांग कर स्वाभिमान को बरकरार रखने की आवाज उठाई। कहा कि हम प्रदर्शन भी करना जानते हैं लेकिन बापू के दर पर न्याय की उम्मीद से आये हैं। हमारे समर्पण को हमारी कमजोरी न समझा जाये। हम वर्षों वर्ष से प्रशासन से कंधा मिलाकर चलने के आदी हैं। हमें आन्दोलन की राह से बचाया जाये।
प्रिंट एवं इलेक्ट्रानिक मीडिया एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनय कुशवाह व जिलाध्यक्ष वरिष्ठ पत्रकार अनिल वर्मा शेखर ने कहा कि हम रचनात्मक सोच के लोग हैं। हर मोड़ पर प्रशासन का सहयोग मिला। कभी कोई अपेक्षा नहीं की गई। प्रशास ने भी हमारा सहयोग किया। हमने पत्रकारिता के दौर बदलते देखे लेकिन पिछले कुछ दिनों में जिला प्रशासन द्वारा हुए कुछ फैसलों ने हमें अपार पीड़ा पहुंचाई। हम 24 घंटे और पूरे वर्ष प्रशासन के बीच काम करते हैं फिर भी मेला रामनगरिया समिति ने अपने कार्यक्रम में मीडिया को दरकिनार कर हमें जो मानसिक पीड़ा पहुंचाई यह ठीक नहीं। हमारी परम्परा रही है कि जब भी हम संकट में फंसे तो हमने गांधीवादी रास्ता अपनाया। आज भी हम गांधी बाबा से ही अपनी वेदना को कहने आये हैं।
उन्होंने कहा कि जिस प्रकार प्रशासन ने सरकारी बैठकों में कवरेज की रास्ता बंद की। यह कोई ठीक नहीं। रामनगरिया के पत्रकार सम्मेलन से लेकर समापन समारोह तक पत्रकारों की सहभागिता को नग्णय किया गया। इस पर पुनः आत्मचिन्तन की जरूरत है। पत्रकारों के बड़े वर्ग के साथ हुई नाइसांफी का रास्ता निकाला जाये नहीं तो हमें अपने स्वाभिमान को बचाने के लिए स्वयं कोई रास्ता निकालना पड़ेगा। यहां पहुंचे नगर मजिस्ट्रेट अशोक कुमार मौर्य ने वरिष्ठ पत्रकारों की इस बड़ी संख्या के सामने वायदा किया कि हम सभी एक परिवार के हैं। जिलाधिकारी से बात कर रास्ता जरूर निकालेंगे। इस दौरान महामंत्री अनिल कुमार प्रजापति, शरद कटियार, राजू भारती, डिस्ट्रिक्ट यूथ प्रेस क्लब के अध्यक्ष ऋषि सेंगर, अरुण परिहार, हृदेश कुमार उर्फ वीरू, विनोद श्रीवास्तव, लक्ष्मीकान्त भारद्वाज, दिलीप कश्यप, विकास दुबे, मोहम्मद शकील खांन, रतिभान सिंह चौहान, हर्ष वर्मा, गोपीनाथ, अभिषेक कटियार, इंतखाब अख्तर, ताहिर खां, दीपक शुक्ला, धीरज अग्निहोत्री, ताहिर खान, राजीव कुमार सक्सेना, अनवर पठान, देवेन्द्र श्रीवास्तव, जितेन्द्र श्रीवास्तव, शहनवाज खां, फैजन, पीर मोहम्मद मंसूरी, राहुल गुप्ता, मोहनलाल गौड़, अजीज सिंह यादव, उपेन्द्र नाथ मिश्रा, प्रवेन्द्र प्रताप सिंह, मनोज जौहरी, जितेन्द्र तिवारी, उत्कर्ष चतुर्वेदी, मनीष श्रीवास्तव, राजेन्द्र श्रीवास्तव, आलोक सिंह, विनय सक्सेना, अरुण परिहार, अब्दुल मलिक, संजय शर्मा सहित करीब एक सैकड़ा कलमनवीस मौजूद रहे।