सलमान खुर्शीद बोलेः सीएए का विरोध उचित,धर्म के आधार पर हमें नागरिकता स्वीकार नहीं, हम भारतीय हैं

Your ads will be inserted here by

Easy Plugin for AdSense.

Please go to the plugin admin page to
Paste your ad code OR
Suppress this ad slot.

कायमगंज/फर्रुखाबाद: पूर्व केन्द्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद अपने पैतृक निवास ग्राम पितौरा में पत्रकारों से रूबरू होते हुए कहा कि हिन्दुस्तान में मुस्लिम प्रधानमंत्री अब तक क्यों नहीं बना३? मैंने अब तक मुस्लिम प्रधानमंत्री नहीं देखा।
शनिवार को अपने पैतृक निवास जाकिर महल में पत्रकारवार्ता में उन्होंने कहा कि शाहीन बाग में जो सीएए कानून को लेकर विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है उसको सरकार किसी नई पहल की शुरुआत करें। मेरे अनुसार सीएए कानून लाया गया है, वह धर्म के आधार पर लाया गया है। जब भारत पड़ोसी देशों की हिमायत करता है तो श्रीलंका,वर्मा के वाशिंदों को फिर भारत सरकार क्यों नहीं ले रही है। जबकि ब्लूचिस्तान में पाकिस्तान से आजादी चाहते हैं। वहां पर भारत उन लोगों को यह सुविधा क्यों नहीं मुहैया करा रहे हैं। शाहीनबाग में जनता सीएए से आजादी,पिछड़ेपन से आजादी, बेरोजगार से आजादी आदि नारे लगा रहे हैं। 2014 ही क्यों जब तक पाकिस्तान के सारे उत्पीडऩ के शिकार हिन्दू और सिक्ख भारत न आ जाएं तब तक कानून लागू रहे। भारत सरकार अगर कोई जनता भारत विरोधी नारे लगाती है तो ऐसे लोगों को जेल में डाल दे। पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि जीडीपी की दर नीचे जा रही है शाहीन बाग के नौजवान धरने पर बैठे हुए हैं उनके हाथों को काम मिलना चाहिए। सरकार इस पर समझौते वाला विचार क्यों नहीं कर रही है। बजट के बारे में जानकारी करने पर उन्होंने कहा कि भारत सरकार का जो बजट पेश किया गया है वह भी एक दिखावापन है। उत्तर प्रदेश का कहना ही क्या वह रोजगार क्या देगी, किसानों का क्या सुविधा उपलब्ध कराएगी। जब गायों के लिए करोड़ों रुपए के बजट का मजाक बन रहा हैं। गायें भूखीं हैं गौशाला में गायें कैद हैं। खाने के लिए कुछ नहीं भूख से तड़प कर मर रही हैं। कपिल सिब्बल क्या कहते हैं इसके बारे में मैं कोई टिप्पणी करना नहीं चाहता हूॅ। असम में समझौता के तहत एनआरसी लागू की गई थी। बाद में सुप्रीमकोर्ट में दखलंदाजी करते हुए लागू करवाई थी। लेकिन उसके विपरीत परिणाम आए थे। जिस पर कोर्ट ने उस पर रोक लगा दी। इस अवसर पर विजय कटियार जिलाध्यक्ष, उजैर खां, मनोज गंगवार, प्रकाश प्रधान, कौशलेन्द्र यादव, इरफान, साजेब खां उर्फ मंत्री आदि लोग मौजूद रहे।