ताज़ा खबर :

अयोध्या में एक दरगाह ऐसी भी, जहां बनी हैं गाय की मजार

अयोध्या में एक दरगाह ऐसी भी, जहां बनी हैं गाय की मजार

अयोध्या में एक दरगाह ऐसी भी, जहां बनी हैं गाय की मजार

Comments Off on अयोध्या में एक दरगाह ऐसी भी, जहां बनी हैं गाय की मजार

अयोध्या: छह सौ वर्षों से सांप्रदायिक सद्भाव की अलख जगा रही मख्दूम साहब की दरगाह में यूं तो कुल 69 मजारें हैं, लेकिन गाय की कब्र मख्दूम साहब की मजार के सामने है। इसके पास लाल रंग का पत्थर लगाया गया है, जिससे गाय की कब्र की पहचान हो सके। 

दरगाह में गाय की कब्र बनाने की वजह मख्दूम साहब का गोवंश से प्रेम है। वह गाय पालते थे। इन्हीं में एक गाय से उनको बहुत प्रेम था। जब गाय की मृत्यु हो गई तो मख्दूम साहब को बहुत दुख हुआ। गाय की मौत के बाद भी उसे अपने से दूर नहीं जाने दिया, बल्कि अपने आस्ताने में ही उसको दफन कराया। उसकी कब्र बनवाई, जो अब भी मौजूद है। गाय की यह कब्र कौमी एकता की नजीर पेश करती है। 

सछ्वाव की यह अलख करीब 600 वर्ष पूर्व ही सूफी संत मख्दूम साहब ने यहां जगाई थी। मख्दूम साहब की राम व रहीम में बराबर श्रद्धा थी। सरयू से उनका अगाध प्रेम था। अपनी तपस्या के लिए सरयू नदी को ही चुना। मख्दूम साहब ने प्रभु राम की नगरी अयोध्या में मोक्षदायिनी सरयू नदी में एक पैर पर खड़े होकर 40 दिन तक तपस्या की थी। 

दरगाह के सज्जादानशीन नैयर मियां बताते हैं कि जिस घाट पर उन्होंने तपस्या की थी, वह घाट काफी दिनों तक मख्दूम घाट के नाम से जाना गया। नैयर मियां बताते हैं कि सूफियों ने हर व्यक्ति की भावनाओं का सम्मान करते हुए इंसानियत की सेवा की और मोहब्बत का पैगाम दिया। 

सर्वधर्म समभाव-सद्भाव का संदेश देती दरगाह 

-मख्दूम साहब की दरगाह सर्वधर्म समभाव व सद्भाव का संदेश देती हैं। दरगाह से जुड़े शाह हयात मसूद गजाली कहते हैं कि मख्दूम साहब ने हमेशा सबका सम्मान किया। दरगाह में हर वर्ग संप्रदाय के लोग आते हैं और मख्दूम साहब की जियारत करते हैं। खानकाह के अंदर बसंत मनाने की परंपरा सछ्वाव को मजबूत करती है।

Related Posts

माहे रमज़ान में की गई नेकी बनाती है जन्नत का हक़दारःफरियाब खांन

Comments Off on माहे रमज़ान में की गई नेकी बनाती है जन्नत का हक़दारःफरियाब खांन

अलविदा जुमे में नमाजियों ने की गुनाहों से तौबा

Comments Off on अलविदा जुमे में नमाजियों ने की गुनाहों से तौबा

चांद के दीदार के साथ शहर में फैली रमजान की रौनक

Comments Off on चांद के दीदार के साथ शहर में फैली रमजान की रौनक

‘ताकि काम के साथ हो सके इबादत’, रोजदारों की मदद करेंगे ये Apps

Comments Off on ‘ताकि काम के साथ हो सके इबादत’, रोजदारों की मदद करेंगे ये Apps

रंगों की फुहार और गुझिया की मिठास में गाढ़ा हुआ सौहार्द

Comments Off on रंगों की फुहार और गुझिया की मिठास में गाढ़ा हुआ सौहार्द

झुक जाओ तनिक रघुवीर लली मेरी छोटी सी

Comments Off on झुक जाओ तनिक रघुवीर लली मेरी छोटी सी

महाकाल मंदिर में 36 किलो का लड्डू भोग लगाया गया

Comments Off on महाकाल मंदिर में 36 किलो का लड्डू भोग लगाया गया

सुमित्रा व हनुमान चरित्रों पर मानस विद्वानों ने डाला प्रकाश

Comments Off on सुमित्रा व हनुमान चरित्रों पर मानस विद्वानों ने डाला प्रकाश

कृष्ण कन्हैया की छठी नगर के मंदिरों में धूम-धाम से मनायी गयी।

Comments Off on कृष्ण कन्हैया की छठी नगर के मंदिरों में धूम-धाम से मनायी गयी।

मोहम्मद साहब की यौमे पैदाइश पर शान ओ शौकत के साथ निकाला गया। जुलूस ए मोहम्मदी

Comments Off on मोहम्मद साहब की यौमे पैदाइश पर शान ओ शौकत के साथ निकाला गया। जुलूस ए मोहम्मदी

जन्माष्टमी 2019: भगवान कृष्ण की बांसुरी के बारे में नहीं जानते होंगे आप ये बातें

Comments Off on जन्माष्टमी 2019: भगवान कृष्ण की बांसुरी के बारे में नहीं जानते होंगे आप ये बातें

108 महिलाओं ने जय माता के उद्वघोष के साथ निकाली कलशयात्रा 

Comments Off on 108 महिलाओं ने जय माता के उद्वघोष के साथ निकाली कलशयात्रा 

Create Account



Log In Your Account